Site icon Spiritual-communions

Ayurveda-Tips-1

आरोग्य विषयक नियम
Image by Fathima Shanas from Pixabay
1) आपल्या शरीररूपी देवळाचे मुख्य चार आधार स्तंभ आहे व ते म्हणजे आहार निद्रा ब्रह्मचर्य व शारीरिक व्यायाम हे होत.  आपला आहार पचनास उपयुक्त आणि सात्विक असा असावा. मसालेदार चमचमीत तेलकट पदार्थ अतिशय तिखट असे आंबट पदार्थ दैनंदिन वापरात कमीत कमी असावेत.
2) जेवणाच्या साधारणत:  अर्ध्या तासापूर्वी अर्धा ग्लास पाणी पिणे योग्य आहे.  जेवणाची क्रिया करत असताना मधून मधून पाणी पिणे वर्ज्य आहे. जेवण हे नेहमी चावून-चावून घशाखाली उतरवले पाहिजे जेणे करून योग्य असा पाचक रस तयार होतो.  प्रसंगानुरूप जेवण झाल्यावर एक दोन घोट पाणी पिणे हितावह आहे.  जास्त प्रमाणात गोड आंबट चमचमीत जेवण केल्याने कृत्रिम तहान लागत असते. जेवण झाल्यानंतर चूळ भरून अन्ननलिका स्वच्छ करून घेण्याकरिता एक दोन घोट पाणी पिणे चांगले कृत्रिम तहान लागल्यावर जेव्हा नैसर्गिक तहान लागते,
 त्यावेळेस दातखीळी बंद करून पाणी पिणे आरोग्याच्या दृष्टीने हितावह आहे.
3) कम खाना खूप चबाना हाच आहे तंदुरुस्तीचा खजाना पोटाचे दोन कप्पे जेवणासाठी एक कप्पा पाहण्याकरिता व एक कप्पा हवे करिता मोकळा ठेवावा.
रात्रीचे जेवण नेहमी हलकेफुलके असावे पोट जर जड नसेल तर तो अभ्यास सुखकारी असे दाबून जेवणे म्हणजे दुसऱ्या शब्दात आळस आणि सुस्ती आमंत्रण असे  होय. 
4) रात्री साधारणता दहा वाजता शयन करून पहाटे पाच वाजता उठले पाहिजे . सर्वसाधारणपणे सात तासाची झोप पुरे होत असते.
5) रात्रीच्या जेवणात आंबट पदार्थ नसावेत त्याचप्रमाणे जेवणानंतर लगेच झोपू नये. नेहमी डाव्या कुशीवर झोपणे आरोग्याप्रत आहे. जेणेकरून सूर्य नाडीचा प्रवाह सुरळीत होऊन जेवण पचन क्रिया सहजता उपलब्ध होते. अधून मधून उजव्या कुशीवर होण्यास हरकत नाही.
६) झोपण्यापूर्वी थंड पाण्याने डोळे धुणे. हात पाय गुडघ्यापासून बोटांपर्यंत व तोंड धुवून शांत झोप घ्यावी.
७) पाठीवर उताणे झोपल्याने नाना प्रकारची बरी वाईट स्वप्ने पडतात.  तोंड उघडे राहून नाक बंद होते श्वसननलिका दाबली जाते व स्वास्थ्य बिघडते तपकीर हुंगण्याची सवय अतिशय वाईट आहे. कधी कधी तपकिरीची मात्रा वाढल्याने मनुष्य प्रलंबित निद्रेत कोमात सरकला जातो अशी अनेक उदाहरणे आहेत.
) रात्रीच्यावेळी नियमितरित्या झोप घेणाऱ्या व्यक्तींनी दिवसा शक्यतो झोपू नये. अशाप्रकारे झोप घेणे म्हणजे आळशाला सामोरे जाण्यासाठी आहे . दिवसाच्या जेवणानंतर आपण वाम कुशी करू शकता परंतु झोप नाही.
९) जेवण घेत असताना चांगले विचार करावेत कारण चांगल्या विचारासह घेतलेले अन्न उत्कृष्ट अन्नरस व रस रक्त तयार करतात व त्यामुळे मन सदोदित प्रफुल्ल उत्साहित राहते जसे खावे अन्न तसे राही मन.
१०) आपण जगण्यासाठी जेवतो, जेवणासाठी जगत नाही हे सर्वश्रुत आहेच. हा सिद्धांत डोळ्यापुढे ठेवून काळजी घ्यावयास हवी. तामसी आहार घेतल्याने शरीरातील रक्त गरम होऊन रक्तप्रवाह पातळ होतो आणि फलस्वरूप माणूस तापट होत जातो.
११) जेवण करणाऱ्या व्यक्तीने सुद्धा स्वच्छता पाळून शुद्ध विचारांसह अन्न शिजवणे जरुरीचे आहे. त्याच प्रमाणे तयार झालेले अन्न शुद्ध पवित्र विचारांनी युक्त असे वाढले गेले पाहिजे.
१२)  संत म्हणतात साधू अच्छी भिख से रहते सदा प्रसन्न. बुद्धी भ्रष्ट कर देता है अन्याय का अन्न. 
योगाच्या शुद्धीकरणाचा अभ्यास करणाऱ्या साधक गटांनी या प्रकारे सातत्याने नियमाचे पालन करणे प्रयत्नांची पराकाष्टा व्हायला हवी. परिश्रम हे एक प्रकारचे तपच आहे आपले शरीर हे आपली शारीरिक व अध्यात्मिक शक्ती द्विगुणित करणारे एक माध्यम आहे. याच माध्यमास केंद्रस्थानी ठेवून शास्त्रांमध्ये उल्लेख आहे की,
देहो  देवालयंम्  प्रोक्तम आत्मा देव : सनातन:
 त्याचे दज्ञान निर्माल्य. सोहम भावें न पूजयेत..  व्यास… 
अथर्ववेदामध्ये या शरीराचा अयोध्यानगरी, स्वर्ग, अलकापुरी सारख्या नावांनी उल्लेख केला गेला आहे.

स्वास्थ्य नियम
१) हमारे शरिरमंदिर के चार मुख्य स्तंभ आहार, निद्रा, ब्रह्मचर्य और शारीरिक व्यायाम हैं। आपका आहार सुपाच्य और सात्विक होना चाहिए। मसालेदार तैलीय खाद्य पदार्थ, बहुत मसालेदार खट्टे खाद्य पदार्थ दैनिक उपयोग में कम से कम रखा जाना चाहिए।
२) भोजन से लगभग आधे घंटे पहले आधा गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है। भोजन करते समय समय-समय पर पानी पीना मना है। भोजन हमेशा चबा-चबा के खाना चाहिए ताकि उचित पाचन रस का उत्पादन हो। भोजन के बाद एक-दो घूंट पानी पीना उचित है। बहुत अधिक मीठा और खट्टा चटकदार खाना खाने से कृत्रिम प्यास लगती है। भोजन के बाद अन्ननलिका को साफ करने के लिए पानी की एक दो घूंट पीएं। जब कोई प्राकृतिक प्यास हो, उस समय, बंद दांतों के साथ पानी पीने की सलाह दी जाती है।
३) कम भोजन, खूब चबाना, फिटनेस का खजाना है। खाने के लिए एक कप्पा खाने के लिए पेट के दो कप्पा खुले छोड़ देने चाहिए।
रात का खाना हमेशा हल्का होना चाहिए। यदि पेट भारी नहीं है, तो यह एक सुखद अध्ययन है।
४) रात को दस बजे बिस्तर पर जाएँ और सुबह पाँच बजे उठें। सात घंटे की नींद आमतौर पर पर्याप्त होती है।
५) रात के खाने में कोई खट्टा खाद्य पदार्थ नहीं होना चाहिए और भोजन के तुरंत बाद बिस्तर पर नहीं जाना चाहिए। हमेशा बायीं कुसपर सोना स्वस्थ होता है। ताकि सूर्य नाड़ी का प्रवाह स्वस्थ रहे और भोजन का पाचन आसानी से हो सके। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप समय-समय पर दाईंकुसपर ओर हैं।
६) बिस्तर पर जाने से पहले ठंडे पानी से आँखों को रगड़ें। हाथ, पैर, घुटने, उंगलियां और मुंह धोना चाहिए और शांति से सोना चाहिए।
७) आपकी पीठ के बल सोने से विभिन्न बुरे सपने आते हैं। मुंह खुला है और नाक बंद है। श्वासनली संकुचित है और स्वास्थ्य बिगड़ता है। तपकीर सूंघने की आदत बहुत खराब है। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां एक व्यक्ति कभी-कभी तपकीर सूंघने की मात्रा में वृद्धि के कारण ग़हरी  नींद में खो जाता है।
८) जो लोग रात को नियमित रूप से सोते हैं उन्हें दिन में नहीं सोना चाहिए। इस तरह से सो जाना आलस्य से मित्रता करने जैसा है। आप दोपहर के भोजन के बाद आराम कर सकते हैं, लेकिन नींद नहीं।
९) भोजन करते समय सावधानी से सोचें क्योंकि अच्छे विचारों के साथ लिया गया भोजन उत्कृष्ट रस और रक्त का रस उत्पन्न करता है और इसलिए भोजन के रूप में मन अनंत रूप से प्रफुल्लित रहता है क्योंकि भोजन खाया जाता है।
१०) यह सर्वविदित है कि हम जीने के लिए खाते हैं, भोजन के लिए जीते नहीं। इस सिद्धांत को ध्यान में रखने के लिए देखभाल की जानी चाहिए। तामसी खाने से शरीर में रक्त गर्म होता है और रक्त का प्रवाह धीमा हो जाता है और परिणामस्वरूप व्यक्ति गर्म हो जाता है।
११) भोजन करने वाले व्यक्ति के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह शुद्ध विचारों के साथ भोजन पकाए और भोजन पकाए। उसी तरह से तैयार भोजन को शुद्ध पवित्र विचारों के साथ पकाया जाना चाहिए।
१२) संत कहते हैं कि अच्छी दान से साधु हमेशा खुश रहते हैं। बुद्धी भ्रष्ट कर देता है अन्याय का भोजन. 
योग की शुद्धि का अभ्यास करने वाले साधकों के समूह को लगातार इस तरह से नियमों का पालन करने का प्रयास करना चाहिए। कड़ी मेहनत तपस्या का एक रूप है। हमारा शरीर एक ऐसा माध्यम है जो हमारी शारीरिक और आध्यात्मिक शक्ति को दोगुना करता है। केंद्र में इस माध्यम के साथ, शास्त्रों का उल्लेख है कि,
देहो देवल्यम् प्रोक्तम् आत्मा देवः सनातनः
 उसका ज्ञान शुद्ध है। सोहम भावे न पूजयेत। व्यास ।।
अथर्ववेद में इस शरीर का उल्लेख अयोध्यागढ़ी, स्वर्ग, अलकापुरी जैसे नामों से मिलता है।

Health rules

Photo by Ponyo Sakana from Pexels


1) The four main pillars of our body are diet, sleep, celibacy, and physical exercise. Your diet should be digestible and satvic. Spicy oily foods, very spicy sour foods should be kept to a minimum in daily use.

2) It is advisable to drink half a glass of water about half an hour before meals. Drinking water from time to time while eating is prohibited. Food should always be chewed so that proper digestive juices are produced. It is advisable to drink one or two sips of water after a meal. Overeating sweet and sour food causes artificial thirst. After the meal, drinks a couple of sips of water to clean the food pipe. When there is a natural thirst, it is advisable to drink water with closed teeth.

3) Less food, better chewing, fitness is a treasure. To eat one kappa, two kappas of the stomach should be left open.

Dinner should always be light. If the stomach is not heavy, it is a social study.

4) Go to bed at ten in the night and wake up at five in the morning. Seven hours of sleep is usually sufficient.

5) There should be no sour food in the dinner and should not go to bed immediately after the meal. It is always healthy to sleep on the left side. So that the flow of Surya Nadi is healthy, and the digestion of food can be done quickly. It does not matter that you are on the right side from time to time.

6) Rub the eyes with cold water before going to bed. The hands, feet, knees, fingers, and mouth should be washed and sleep peacefully.

7) Sleep on your back brings various nightmares. The mouth is open, and the nose is closed. The trachea is narrowed, and health worsens. The habit of smelling tapkir is nasty. There are many instances where a person sometimes gets lost in sleeping due to an increase in the amount of feeling tapkir.

8) People who sleep regularly at night should not sleep during the day. Sleeping like this is like befriending laziness. You can rest after lunch, but not sleep.

9) Think carefully while eating food because food taken with good thoughts produces excellent juice and blood juice, and hence the mind remains infinitely swell as food is eaten.

10) It is well known that we eat for a living, not for food. Care must be taken to keep this principle in mind. Eating tamasi makes the blood hot in the body and slows down the flow of blood, and consequently, the person becomes hot.

11) A person needs to eat food and cook food with pure thoughts. Food prepared in the same way should be cooked with genuine, sacred thoughts.

12) Saints say that sadhus are always happy with kind donations. Intelligence corrupts the food of injustice.
The group of seekers practicing the purification of yoga should continuously strive to follow the rules in this way. Hard work is a form of austerity. Our body is a medium that doubles our physical and spiritual strength. With this medium in the center, the scriptures mention that,
Deho Devalyam Proktam Atma Dev: Sanatana
 His knowledge is pure. Soham Bhave is not worshiped. Vyas.
This body is mentioned in the Atharvaveda with names like Ayodhyagadhi, Swarg, Alkapuri.
Exit mobile version